Best 2 Line Shayari By Munawwar Rana On Maa- Pyar-Jajbat-Mamta-Dil

Best 2 Line Shayari By Munawwar Rana On Maa- Pyar-Jajbat-Mamta-Dil

एक माँ के प्रेम मे लिखी गयी इससे अच्छी शायरी शायद ही आपको कही पढ़ने को मिले। माँ के प्रेम को अगर किसी ने पन्नो पर उतारा है। तो इसका सबसे बड़ा श्रेय माँ भारती के सबसे बड़े हिन्दी और उर्दू के महान शायर और लेखक मुनव्वर राना को जाता है। 

पहले पहले गजल के मायने महबूब से बातें करना होता था। लेकिन मुन्नवर राना वो पहले अजीम शायर है। जिन होने माँ से ही नहीं बल्कि माँ से बेटी, बेटा से माँ, माँ से बेटे के दिल के जज़्बातो को कलम से कागज पर उकेरा। माँ के उपर उन होने एक पुस्तक लिखी        

‘मां’ से ” कुछ चुनिंदा बेहतरीन शायरी” 

उसमे वो लिखते है ग़ज़ल का मतलब महबूब से बातें करना है। अगर इसे सच मान लिया जाए, तो फिर महबूब ‘मां’ क्यों नहीं हो सकती।

इस बात को मुनव्वर राणा ने एक शेर मे युँ कहा

*********

“मामूली एक कलम से कहां तक घसीट लाए
हम इस ग़ज़ल को कोठे से मां तक घसीट लाए”

*********

इसी संदर्भ मे उन्होने आगे ये कहा की अगर अगर इस इल्ज़ाम को सही मान लिया जाए तो फिर महबूब के हुस्न, उसके जिस्म, उसके शबाब, उसके रुख और रुख़सार, उसके होंठ, उसके जोबन और उसकी कमर की पैमाइश को अय्याशी क्यों नहीं कहा जाता है। जन्नत मां के पैरों के नीचे है, इसे ग़लत क्यों नहीं कहा गया। मैं पूरी ईमानदारी से इस बात का तहरीरी इकरार करता हूं कि मैं दुनिया के सबसे मुक़द्दस और अज़ीम रिश्ते का प्रचार सिर्फ़ इसलिए करता हूं कि अगर मेरे शेर पढ़कर कोई भी बेटा मां की ख़िदमत और ख़याल करने लगे, रिश्तों का एहतेराम करने लगे तो शायद इसके बदले में मेरे कुछ गुनाहों का बोझ हल्का हो जाए।”

**********

मुनव्वर राना कि ‘माँ’ पर शायरी
(‘Maa’ Shayari By Munawwar Rana)

**********

Munawwar Rana Best 2 Line Shayari 

मोहब्बत की कुछ उम्दा 2 लाइन शायरी

हँसते हुए माँ बाप की गाली नहीं खाते
बच्चे हैं तो क्यों शौक़ से मिट्टी नहीं खाते

Hanste hue Maa Baap ki gaalee nahin khaate
Bachhe hai to kyon shauk se mitti nahin khaate
**********

हो चाहे जिस इलाक़े की ज़बाँ बच्चे समझते हैं
सगी है या कि सौतेली है माँ बच्चे समझते हैं

Ho chaahe jis ilaake ki jabaan bacche samjhte hai
Sagee hai ya ki sauteli hai Maa bachhe samjhte hai
**********

हवा दुखों की जब आई कभी ख़िज़ाँ की तरह
मुझे छुपा लिया मिट्टी ने मेरी माँ की तरह

Hawa dukhon ki jab aai kabhi khijaan ki tarah
Mujhe chhupa liya mitti ne meri Maa ki tarah
**********

सिसकियाँ उसकी न देखी गईं मुझसे ‘राना’
रो पड़ा मैं भी उसे पहली कमाई देते

Siskiyan uski na dekhi gai mujhse ‘Rana’
Ro pada main bhi use pehali kamaai dete
**********

Best 2 Line Shayari Munnwar rana on maa shayari

सर फिरे लोग हमें दुश्मन-ए-जाँ कहते हैं
हम जो इस मुल्क की मिट्टी को भी माँ कहते हैं

Sar phire log hamein dushman-e-jahan kehate hain
Ham to is mulk ki mitti ko bhi Maa kehate hain
**********

Munawwar Rana On Maa Best 2 Line Shayari 

कुछ दर्द भरी शायरी – कुछ दर्द भरे नगमे

मुझे बस इस लिए अच्छी बहार लगती है
कि ये भी माँ की तरह ख़ुशगवार लगती है

Mujhe bas isliye acchi bahaar lagti hai
Ki ye bhi Maa ki tarah khusgawar lagati hai
**********

मैंने रोते हुए पोंछे थे किसी दिन आँसू
मुद्दतों माँ ने नहीं धोया दुपट्टा अपना

Maine rote hue ponchhe the kisi din aansoo
Muddaton Maa nein nahin dhoya dupatta apna
**********

भेजे गए फ़रिश्ते हमारे बचाव को
जब हादसात माँ की दुआ से उलझ पड़े

Bheje gaye farishte hamaare bachaav ko
Jab haadsaat Maa ki dua se uljh pade
**********

तार पर बैठी हुई चिड़ियों को सोता देख कर
फ़र्श पर सोता हुआ बेटा बहुत अच्छा लगा

Taar par bethi hui chidiyon ko sota dekh kar
Farsh par sota hua beta bahut accha laga
**********

Best 2 Line Shayari Munnwar rana on maa shayari

लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती
बस एक माँ है जो मुझसे ख़फ़ा नहीं होती

Labon pe uske kabhi baddua nahin hoti
Bas ek Maa hai jo mujhse khafa nahin hoti
**********

Maa Best 2 Line Shayari Munawwar Rana

Read Here Beautiful 2 Line Shayari

इस चेहरे में पोशीदा है इक क़ौम का चेहरा
चेहरे का उतर जाना मुनासिब नहीं होगा

Is chehare mein posheeda hai ik kaum ka chehara
Chehare ka utar jaana munaasib nahin hoga
**********

अब भी चलती है जब आँधी कभी ग़म की ‘राना’
माँ की ममता मुझे बाहों में छुपा लेती है

Ab bhi chalti hai jab aandhi kabhi gham ki Rana
Maa ki mamta mujhe baahon mein chhupa leti hai
**********

मुसीबत के दिनों में हमेशा साथ रहती है
पयम्बर क्या परेशानी में उम्मत छोड़ सकता है

Musibat ke dino mein hamesha saath rehati hai
Paymbar kya pareshaani mein ummat chhod sakta hai
**********

पुराना पेड़ बुज़ुर्गों की तरह होता है
यही बहुत है कि ताज़ा हवाएँ देता है

Puraana ped bujurgon ki tarah hota hai
Yahi bahut hai ki taaza hawaayen deta hai
**********

किसी के पास आते हैं तो दरिया सूख जाते हैं
किसी के एड़ियों से रेत का चश्मा निकलता है

Kisi ke paas aate hain to dariya sookh jaate hain
Kisi ke ediyon se ret ka chshma nikalata hai
**********

Maa Best 2 Line Shayari Munawwar Rana

Read Here Beautiful 2 Line Shayari

जब तक रहा हूँ धूप में चादर बना रहा
मैं अपनी माँ का आखिरी ज़ेवर बना रहा

Jab tak raha hoon dhoop mein chaadar bana raha
Main apni Maa ka aakhiri jewar bana raha
**********

देख ले ज़ालिम शिकारी ! माँ की ममता देख ले
देख ले चिड़िया तेरे दाने तलक तो आ गई

Dekh le zaalim shikaari ! Maa ki mamta dekh le
Dekh le chidiya tere daane talak to aa gai
**********

मुझे भी उसकी जुदाई सताती रहती है
उसे भी ख़्वाब में बेटा दिखाई देता है

Mujhe bhi uski judaai sataati rehati hai
Use bhi khwaab mein beta dikhaai deta hai
**********

मुफ़लिसी घर में ठहरने नहीं देती उसको
और परदेस में बेटा नहीं रहने देता

Muflisi ghar mein theharne nahin deti usko
Aur pardesh mein beta nahin rehne deta
**********

अगर स्कूल में बच्चे हों घर अच्छा नहीं लगता
परिन्दों के न होने पर शजर अच्छा नहीं लगता

Agar school mein bachhe ho ghar achha nahin lagta
Parindon ke na hone par shazar achha nahin lagta
**********

Maa Munawwar Rana Best 2 Line Shayari

Read Here Most Beautiful 2 Line Shayari

गले मिलने को आपस में दुआयें रोज़ आती हैं
अभी मस्जिद के दरवाज़े पे माएँ रोज़ आती हैं

Gale milne ko aapas mein duaayein roz aati hain
Abhi maszid ke darwaaze pe maayen roz aati hain
**********

कभी-कभी मुझे यूँ भी अज़ाँ बुलाती है
शरीर बच्चे को जिस तरह माँ बुलाती है

Kabhi-kabhi mujhe yun bhi ajaan bulaati hai
Shareer bachhe ko jis tarah Maa bulati hai
**********

किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दुकाँ आई
मैं घर में सब से छोटा था मेरे हिस्से में माँ आई

Kisi ko ghar mila hisse mein ya koi dukaan aayi
Main ghar mein sab se chhota tha mere hisse mein Maa aayi
**********

ऐ अँधेरे! देख ले मुँह तेरा काला हो गया
माँ ने आँखें खोल दीं घर में उजाला हो गया

Ae andhere! dekh le munh tera kaala ho gaya
Maa nein aankhe khol di ghar mein ujaala ho gaya
**********

इस तरह मेरे गुनाहों को वो धो देती है
माँ बहुत ग़ुस्से में होती है तो रो देती है

Is tarah wo mere gunaahon ko dho deti hai
Maa bahut gusse mein hoti hai to ro deti hai
**********

Best 2 Line Shayari Maa Munawwar Rana

Read Here Most Beautiful 2 Line Shayari

मेरी ख़्वाहिश है कि मैं फिर से फ़रिश्ता हो जाऊँ
माँ से इस तरह लिपट जाऊँ कि बच्चा हो जाऊँ

Meri khwaahish hai ki main phir se farista ho jaaun
Maa se is tarah lipat jaaun ki bchha ho jaaun
**********

मेरा खुलूस तो पूरब के गाँव जैसा है
सुलूक दुनिया का सौतेली माओं जैसा है

Mera khuloos to purab ke gaanv jaisa hai
Sulook duniya ka sauteli maaon jaisa hai
**********

रौशनी देती हुई सब लालटेनें बुझ गईं
ख़त नहीं आया जो बेटों का तो माएँ बुझ गईं

Raushani deti hui sab laaltene bhju gain
Khat nahin aaya jo beton ka to maayen bujh gain
**********

वो मैला-सा बोसीदा*-सा आँचल नहीं देखा
बरसों हुए हमने कोई पीपल नहीं देखा

Wo maila-sa boseeda-sa aanchal nahindekha
Barson hue hamne koi peepal nahin dekha
**********

कई बातें मुहब्बत सबको बुनियादी बताती है
जो परदादी बताती थी वही दादी बताती है

Kai baatein muhabbat sabko buniyaadi bataati hai
Jo pardaadi bataati thi wahi daadi bataati hai
**********

Desi Champs Also have Some Best 2 Line Shayari

Read Also Here Some Best

2 line Shayari  |  2 line love Shayari  | Latest Sad Shayari


We have More 2 Line Shayari On Love, Sad, Life, Romantic, Attitude, Dosti, Punjbai, And Many More. You Can Also Read Best 2 Line Shayari – 100 Most Readable Sad Shayari – 50 Beautiful Shayari on life etc here at Desichamps  Best 2 Line Shayari

Take a Look At –

We R Social

|Facebook| |Pinterest| Twitter | Instagram | YouTube | Google+ |

Spread the love
  • 267
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    267
    Shares

Comments

comments

You Like This Post- Write Yes is the Comment